SSC CGL Syllabus In Hindi And Exam Pattern | SSC CGL के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

नमस्कार दोस्तों आज हम Staff Selection Commission के अंदर Combined Graduate Level (CGL) Syllabus और ssc cgl Exam Pattern के बारे में बात करेंगे जोकि Central Level के Category मे आता है इस पोस्ट का पेपर हर साल अप्रैल के आसपास होता है अतः हम इस लेख के माध्यम से SSC – CGL क्या है ?, इस के पदों को कैसे प्राप्त करें ?, इसके लिए योग्यता क्या होनी चाहिए ?, और कई जानकारी के बारे में जानेंगे अत: इस को अंत तक पढ़ें।

SSC CGL Full Form

CGL का नाम सुनते ही सबसे पहले विचार आता है कि आखिरकर SSC CGL का फुल फॉर्म क्या होता है ? तो दोस्तों हम आपको बता दें कि SSC CGL का फुलफॉर्म Staff Selection Commission Combined Graduate Level होता है और जिसमें CGL को हिंदी में संयुक्त स्नातक स्तर बोलते हैं।

SSC CGL क्या है

यह एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है जिसमें भारत के सभी लोग प्रतिभागी बन सकते हैं  यह राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है यह परीक्षा प्रतिवर्ष होती है तथा प्रतिवर्ष इसे ‘कर्मचारी चयन आयोग‘ SSC द्वारा आयोजित किया जाता है

इसका मुख्य उद्देश्य केंद्रीय सरकार के विभिन्न विभागों के रिक्त पदों की पूर्ति करना है जिसमें भारत सरकार द्वारा विभिन्न मंत्रालय विभागों एवं संगठनों में मौजूद समूह बी (Group B)  और समूह सी (Group C) जो खाली स्थान वाली पोस्ट हैं उस रिक्त स्थान के आधार पर भर्ती करना होता है।

CGL के पदों को कैसे प्राप्त कर सकते हैं ?

क्योंकि CGL एक केंद्र स्तर में Competitive Exam है जिसमें ज्यादा मेहनत और धैर्य की जरूरत होती है क्योंकि इसमें भारत में रहते हुए सभी युवा इसके लिए आवेदन कर उम्मीदवार बन सकते हैं

अतः इसमें Competition ज्यादा रहता है लेकिन यदि इसे पास (Crack) करने के बाद आप आएकर, सीबीआई, नारकोटिक्स, और एनआईए जैसे और भी नौकरी पा सकते हैं हालांकि SSC आपके परीक्षा में आए अंक के आधार पर यह तय करती है कि जो उम्मीदवार ने इस पेपर को पास किया है उसे किसी योग्य तथा कौन से क्षेत्र में कार्य दिया जाए ।

SSC CGL Eligibility | CGL के आवेदन फॉर्म को भरने के लिए योग्यता

इस आवेदन फॉर्म को भरने के लिए उम्मीदवारों को कुछ शर्तों का पालन करना होगा जो निम्नलिखित है –

  • सीजीएल का फॉर्म अप्लाई करने के लिए उम्मीदवार को ग्रेजुएट होना अनिवार्य है.।
  • सीजीएल का फॉर्म अप्लाई हेतु उम्मीदवार को भारत का नागरिक अथवा भारत का मूल व्यक्ति भूटान,तिब्बत या फिर नेपाल का शरणार्थी होना जरूरी है।
  • इसमें आयु सीमा को लेकर देखे तो अलग-अलग पोस्ट के लिए अलग-अलग आयु सीमा निर्धारित है जैसे सब इस्पेक्टर, असिस्टेंट अकाउंट ऑफिसर, टैक्स असिस्टेंट, अप्परडिविजन क्लर्क, जूनियर अकाउंटेंट, असिस्टेंटसेक्शनऑफिसर, इन सब और ऐसी पोस्ट के लिए कम से कम आयु 18 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 30 वर्ष होनी चाहिए और इसमें एक पोस्ट है जूनियर स्टैटिकल इन्वेस्टिगेटर जिस में अधिकतम आयु 32 वर्ष तक रखी गई है इन सब में अलग रिजर्वेशन के डिग्री और शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए एक विशेष छूट उम्र में दिया जाता है।

SSC CGL Age Limit

एसएससी सीजीएल के आवेदन फॉर्म को भरने के लिए उम्मीदवार की कम से कम आयु 18 वर्ष से प्रारंभ और अधिक से अधिक 32वर्ष के बीच होनी चाहिए 32 वर्ष से अधिक ना हो जो आयु दसवीं और बारहवीं की मार्कशीट में उल्लेखित हो उसी आयु के मुताबिक जांच आ जाएगा। सबसे जरूरी बात यह 18 से 32 वर्ष की आयु सभी पद का मोटा मोटा हिसाब है इस सीरियल के पदों के लिए सभी की आयु (Age limit) अलग-अलग दी जाती है।

SSC CGL Exam Pattern And Syllabus

SSC CGL की परीक्षा तोड़ी कठिन तरीके अर्थात 4 चरणों में आयोजित होने वाली परीक्षा है जिसमें उम्मीदवार  एक चरण की परीक्षा पास करने के बाद ही दूसरे चरण की परीक्षा के लिए तैयार हो सकता है, और दूसरी चरण की परीक्षा पास करने के बाद उसे तीसरे और चौथे चरण की भी परीक्षा को पास करना होगा

उम्मीदवार द्वारा सभी चरणों की परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद एसएससी द्वारा एक मेरिटलिस्ट जारी की जाती है जिसके आधार पर उम्मीदवार सरकारी नौकरी प्राप्त करने के योग होगा तथा यह चारों चरणों की परीक्षा निम्नलिखित है –

  • Combination Graduate Level (प्रथम चरण)
  • Combination Graduate Level (दूसरा चरण)
  • Descriptive Test (तीसरा चरण)
  • Skill Test (चौथा चरण)

SSC CGL Syllabus And Exam Pattern (प्रथम चरण)

प्रथम चरण (CGL) – प्रथम चरण के पेपर में 100 प्रश्न पूछे जाते हैं जिसे हल करने के लिए 1 घंटे का समय दिया जाता है यह ग्रैजुएट लेवल का पेपर कंप्यूटर आधारित होता है अर्थात इस पेपर को ऑनलाइन मोड के तहत लिया जाता है इस पेपर में 100 प्रश्न पूछे जाते हैं जिसमें 25 – 25 प्रश्न का 4 खंड होता है जिसमें अंग्रेजी, मात्रात्मक रुझान, जनरल इंटेलिजेंसी और सामान्य जागरूकता यह 4 भाग शामिल होते हैं।

SSC CGL Syllabus (गणित)

  • भिन्न
  • पूर्ण संख्या की गणना
  • लाभ और हानि
  • साझेदारी व्यापार
  • समय और दूरी
  • प्रतिशत
  • वर्गमूल
  • रुचि
  • रैखिक समीकरण के रेखांकन
  • त्रिभुज की समानता और सर्वांगसमता
  • त्रिकोण
  • नियमित बहुभुज
  • दाया गोलाकार शंकु
  • व्रत
  • हिस्टोग्राम
  • दंड आरेख और पाई चार्ट
  • आयताकार समांतर चतुर्भुज
  • त्रिकोणमिति अनुपात
  • मानक पहचान
  • दशमलव
  • संख्या के बीच संबंध
  • छूट
  • मिश्रण और गठबंधन
  • कार्य समय
  • अनुपात और समानुपात
  • औसत
  • स्कूल बीजगणितीय और प्रारंभिकsurds की मूल बीच गणिती की पहचान ।
  • त्रिभुज और उसके विभिन्न प्रकार के केंद्र
  • व्रत और उसकी जीवाय, स्पर्श रेखाएं वृत्त की जीवा द्वारा आंतरिक कोण, दो या दो से अधिक व्रतों की उभयनिष्ठ स्पर्श रेखाएं।
  • चतुर्भुज
  • दायाप्रिज्मा
  • राइटसर्कुलरसिलेंडर
  • ऊंचाई और दूरियां
  • आवृतिबहुभुज
  • गोलाध्दोर्
  • त्रिकोणमिति या वर्गाकार आधार वाला नियमित दायापिरामिड।
  • डिग्री और रेडियम उपाय
  • संपूरक कोण

SSC CGL Syllabus (जनरल इंटेलिजेंस एंड रीजनिंग)

स्टार्ट क्रम में मौलिक और गैर मौलिक दोनों प्रकार के विषयों को शामिल किया गया है जिसके टॉपिक सूचीबद्ध है नीचे दिए हुए हैं –

  • उपमा
  • अंतरिक्ष दृश्य
  • समस्या को सुलझाना
  • प्रलय
  • निर्णय लेना
  • भेदभाव
  • रिश्ते की अवधारणा
  • चित्रात्मक वर्गीकरण
  • गैर मौखिकश्रंखला
  • वक्तव्य निष्कर्ष
  • समानताएं और भेद
  • स्थानीउन्मुखीकरण
  • विश्लेषण
  • रक्त संबंध
  • दृश्य स्मृति
  • अवलोकन
  • अंकगणित तर्क
  • अंकगणितसंख्याश्रंखला
  • कोडिंगडिकोडिंग
  • न्याय शास्त्री तर्क

SSC CGL Syllabus (अंग्रेजी भाषा)

अतः परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्न सभी अंग्रेजी में होंगे क्योंकि यह अनुभाग केवल अंग्रेजी भाषा में होगा .।

  • One  word substitution एक शब्द प्रतिस्थापन
  • Error spotting एरररिपोर्टिंग
  • Spelling correction.     वर्तनी सुधार
  • Synonyms , Antonyms.  पर्यायवाची विपरीतार्थक
  • Sentence Rearrange.       वाक्यपुनव्यवस्था
  • Cloze test.                      परीक्षण बंद करें
  • Phrases and idioms.     वाक्यांश और मुहावरे
  • Sentence correction.       वाक्य सुधार
  • Fill in the blanks.             रिक्त स्थान की पूर्ति
  • Reading comprehension.    समझबूझ कर पढ़ना
  • Active passive.                     सक्रिय निष्क्रिय
  • Sentence improvement.     वाक्य सुधार

SSC CGL Syllabus (सामान्य जागरूकता)

यह खंड उम्मीदवार के जागरूकता का परीक्षण लेने के लिए रखा गया है इसमें सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञान, तथा समाज के बारे में जागरूकता से है जिसका विषय नीचे सूचीबद्ध है–

  • विज्ञान
  • किताब लेखन
  • महत्वपूर्ण योजनाएं
  • विभाग
  • भारत और उसके पड़ोसी देश तथा जिसके अंतर्गत इतिहास, संस्कृति, भूगोल, आर्थिक दृश्य सामान्य नीति और वैज्ञानिक अनुसंधान से संबंधित है।
  • सामयिकी
  • खेल
  • महत्वपूर्ण दिन
  • समाचार में लोग

SSC CGL Syllabus And Exam Pattern (दूसरा चरण)

दूसरा चरण (CGL)इस चरण का भी पेपर कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन माध्यम के तहत होता है इसमें समान अंग्रेजी के 100 प्रश्नों व मात्रात्मक क्षमता (Quantitative Ability) के 100 प्रश्न पूछे जाते हैं तथा अन्य प्रश्न, जिस पोस्ट के लिए आपने फॉर्म भरा है उस पर आधारित होते हैं

अर्थात आप जूनियर स्टैटिकल ऑफिसर (JSO) के लिए भरे हैं तो उसका स्टैटिक्स का विषय ऐड होगा,वही असिस्टेंट अकाउंट ऑफिसर और असिस्टेंट ऑडिट ऑफिसर जैसी पोस्ट के लिए सामान्य अध्ययन (General studies) का विषय ऐड होगा, जिसमें Finance और Economics जैसे विषयों के बारे में पूछा जाता है।

SSC CGL Syllabus (मात्रात्मक क्षमता या गणित)

हालांकि यह पाठ्यक्रम चरण एक में पूछा जाता है लेकिन इसे दूसरे चरण में नए तरीके से पेपर डिजाइन  किया जाएगा जो निम्नलिखित सूची बंद है-

  • भिन्न
  • पूर्ण संख्याओं की गणना
  • लाभ और हानि
  • साझेदारी व्यवसाय
  • समय और दूरी
  • प्रतिशत
  • वर्गमूल
  • रुचि
  • रैखिक समीकरण के रेखांकन
  • त्रिभुजों की सर्वांगसमता और समानता
  • त्रिकोण
  • नियमित बहुभुज
  • दाया गोलाकार शंकु
  • व्रत
  • हिस्टोग्राम
  • दंड आरेख
  • पाई चार्ट
  • आयताकार समांतर चतुर्भुज
  • त्रिकोणमिति अनुपात
  • मानक पहचान
  • दशमलव
  • संख्या के बीच संबंध
  • छूट
  • मिश्रण और गठबंधन
  • कार्य और समय
  • अनुपात और समानुपात
  • औसत
  • स्कूल बीजगणित और प्रारंभिक surds की मूल बीजगणित की पहचान।
  • त्रिभुज और उसके विभिन्न प्रकार के केंद्र
  • व्रत और उसकी जीवएं, स्पर्श रेखाएं, वृत्त की जीवाओं द्वारा आंतरिक कोण, दो या दो से अधिक व्यक्तियों की उभयनिष्ठ स्पर्श रेखाएं।
  • चतुर्भुज
  • दायाप्रिज्मा
  • राइटसर्कुलरसिलेंडर
  • ऊंचाई और दूरियां
  • आवृतिबहुभुज
  • गोलार्ध
  • त्रिकोणमितीय या वर्गाकार आधार वाला नियमित दायापिरामिड
  • डिग्री और रेड़ियाउपाय
  • संपूरक कोण

SSC CGL Syllabus (अंग्रेजी भाषा)

इस खंड के जरिए आप से अंग्रेजी भाषा का परीक्षण किया जाएगा तथा इस परीक्षा में पूछे जाने वाले सभी प्रश्न के विषय निम्नलिखित नीचे दिए हुए हैं –

  • रिक्त स्थान भरो। (fill in the blanks
  • विलोम शब्द.           (Antonyms
  • मुहावरे और वाक्य.  (Idioms& phrases
  • वाक्यों में सुधार.        (Improvement of sentences
  • प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष कथन में रूपांतरण (conversion into direct (indirect narration)
  • गद्यांश में वाक्यों का फेरबदल (shuffling of sentence in a passage
  • बोद्ध गम मार्ग.          (Comprehension. Passage
  • त्रुटि स्पार्टकरें.           (Spot the error
  • समानार्थी शब्द.           (Synonyms
  • गलत वर्तनी वाले शब्द की स्पेलिंग/पता लगाना (spelling/detecting misspelt word
  • एक शब्द प्रतिस्थापन.     (One word substitution
  • क्रिया की संक्रिया/निष्क्रिय आवाज ( active/passive voice of verbs
  • वाक्य भागों का फेरबदल.   (Shuffling of sentence parts
  • बंद मार्ग.                (Cloze passage

SSC CGL Syllabus (सांख्यिकी)

यह खंड उम्मीदवारों के द्वारा कठिन बताया जाता है लेकिन मूल युक्ति है कि इस खंड का दोहरा अध्ययन किया जाए ताकि इस खंड में भी अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए अवधारणाओं को परिवर्तित करें जोकि फायदेमंद होगा सांख्यिकी का पाठ्यक्रम निम्न अस्वार नीचे दिया हुआ है.-

  • 1.केंद्रीय प्रवृत्ति की माप- माध्य माध्यिका और बहुलक, विभाजन मान,चतुर्थक, दशमांश,शतमक
  • 2.क्षण , कुर्तोसिस और तिरछापन- तिरछापन और कुर्तोसिस का अर्थ, तिरछापन और कुर्तोसिस के विभिन्न उपाय, विभिन्न प्रकार के क्षण, और उनके संबंध
  • 3.फैलाव के उपाय- रेंजरचतुर्थक विचलन, माध्य विचलन, सामान्य उपाय फैलाव और मानक विचलन, सापेक्ष फैलाव के उपाय
  • 4.स्टैटिक्स डाटा का संग्रह, वर्गीकरण और प्रस्तुति- डेटा संग्रह के तरीके, प्राथमिक और माध्यमिक डाटा, डाटा का सारणी करण,; रेखांकन और चार्ट: आवृत्ति वितरण की आरेखीय प्रस्तुति
  • 5.प्रतिगमन और सहसंबंध- स्कैटर आलेख,सरल प्रतिगमन रेखाएं, सरल सहसंबंध गुणांक,स्पीयरमैन का रैंक से संबंध,विशेषताओं के जुड़ाव के उपाय, बहु प्रतिगमन, आंशिक से संबंध और एकाधिक
  • 6.इंडक्शन नंबर- इंडक्शन नंबर क्या है अर्थ,इंडक्शन नंबर के प्रकार विभिन्न सूत्र,इंडक्शन नंबर के निर्माण में समस्या,इंडक्शन नंबरों काबेसस्प्लिसिंग और शिफ्टिंग,इंडक्शन नंबरों का उपयोग,कास्ट ऑफ लिविंग इंडेक्स नंबर,
  • 7.प्रसरण का विश्लेषण– एक तरफा आंकड़ों का वर्गीकृत और दो तरफा आंकड़ों का वर्गीकृत का विश्लेषण
  • 8.समय श्रंखला विश्लेषण- विभिन्न विधियों द्वारा प्रवृत्ति घटक का निर्धारण, समय श्रंखला के घटक, विभिन्न विधियों द्वारा मौसमी भिन्नता का मापन
  • 9.सांख्यिकी अनुमान- एक अच्छे अनुमान के गुण,अनुमान की तारीख, बिंदु अनुमान और अंतराल अनुमान, परिकल्पना का परीक्षण, परीक्षण की मूल अवधारणा, छोटा नमूना और बड़ा नमूना परीक्षण,कॉन्फिडेंसइंटरवल पर आधारित, परीक्षण जेडटीचीस्क्वायर और एक आंकड़े
  • 10.संभाव्यता सिद्धांत- संभाव्यता की परिभाषा, संभाव्यता का अर्थ,सशर्त संभाव्यता, स्वतंत्र घटनाएं,वेयसप्रमेय,योगिक संभावना
  • 11.नमूना करण सिद्धांत- जनसंख्या और नमूना की अवधारणा, पैरामीटर और आंकड़े, संभाव्यता नमूनाकरणतकनीक,नमूनाकरण और गैर नमूनाकरणत्रुटिया,स्त्रिकृतनमूनाकरण, मल्टीफेजनमूनाकरण, बहु स्त्री नमूना करण,कलस्टरनमूनाकारण, उद्देश्य पूर्ण नमूना करण, व्यवस्थित नमूनाकरण, सुविधा नमूनाकरण, और कोटा नमूना आकार निर्णय, नमूना वितरण
  • 12.यादृच्छिक चर और संभाव्यता वितरण- एक यादृच्छिक चर की अपेक्षा और भिन्नता,संभाव्यता कार्य,यादृच्छिक चर, एक यादृच्छिक चर के उच्च क्षण,पाश्सन,द्विपद,घातीय और समान वितरण, दो यादृच्छिकचर का संयुक्त वितरण,

SSC CGL Syllabus (सामान्य अध्ययन वित्त और अर्थशास्त्र)

इस पाठ्यक्रम को दो भागों में विभक्त किया गया है वित्त और लेख, अर्थशास्त्र और शासन मेरी वक्त है किसके विषय निम्न अनुसार नीचे सूचीबद्ध हैं इसमें भाग 2 है जिसके प्रथम भाग में 80 अंक तथा द्वितीय भाग में 120 अंक का प्रश्न पूछा जाता है।

भाग 1: वित्त और लेख;

  • वित्तीय लेखांकन–वित्तीय रेखाएं की सीमाएं, प्रकृति का दायरा, लेखा सिद्धांत आम तौर पर स्वीकार किए जाते हैं, बुनियादी अवधारणा और सम्मेलन।
  • लेखांकन की बुनियादी अवधारणाए- मूल प्रविष्टि की पुस्तकें, जनरल लेजर, गैर-लाभकारी संगठन खाते, मूल्य हास लेखांकन,बैलेंस शीट, कृतियों का सुधार, व्यापार, विनिमय बिल,सिंगल और डबलएंट्री, बैंक सुलह, संतुलन परीक्षण, उत्पादन, लाभ और हानि विनियोग खाते, पूंजी और राजस्व व्यय के बीच अंतर,इन्वेंटरी का मूल्यांकन, प्राप्ति और भुगतान, आय और व्यय खाते,सेल्फबैलेंसिंगलेजर।

भाग 2 ; अर्थशास्त्र और शासन

  • वित्त आयोग – भूमिका और कार्य
  • भारत के नियंत्रक–महालेखापरीक्षण, संवैधानिक प्रावधान, भूमिका और उत्तरदायित्व
  • सूक्ष्म अर्थशास्त्र का परिचय तथा  इसकी मूल अवधारणा – परिभाषा, आर्थिक अध्ययन के तरीके, उत्पादन संभावना वक्र, अर्थशास्त्र का दायरा और प्रकृति, एक अर्थव्यवस्था की केंद्रीय समस्याएं
  • लागत और उत्पादन का सिद्धांत- उत्पादन और लागत का अर्थ और कारक, इसका नियम परिवर्तनशील अनुपात का नियम और पैमाने के प्रतिफल के नियम,
  • आपूर्ति और मांग का सिद्धांत- मांग का नियम और मांग की लोच, आए और क्रासलोंच, उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत, मांग का अर्थ और निर्धारक, कीमत, आपूर्ति का अर्थ और निर्धारक, उदासीनता वक्र दृष्टिकोण मार्सियन दृष्टिकोण, आपूर्ति का नियम, पूर्ति की लोच,
  • बाजार और बाजार के रूप और विभिन्न बाजारों में मूल्यनिर्धारण– एकाधिकार, बाजार के विभिन्न रूप उत्तम प्रतियोगिता, एकाधिकार,अल्पाधिकार, इस बाजारों में मूल्य निर्धारण,
  • भारत में आर्थिक सुधार- 1991 के बाद से आर्थिक सुधार,निजीकरण, विनिवेश,उदारीकरण,भूमंडलीकरण
  • भारतीय अर्थव्यवस्था- भारत की राष्ट्रीय आय और राष्ट्रीय आय की अवधारणा, राष्ट्रीय आय मापने की विभिन्न विधियां,
  • बेरोजगारी और गरीबी– सापेक्ष और पूर्ण गरीबी, बेरोजगारी के प्रकार,घटनाएं, कारण
  • जनसंख्या का आकार- वृद्धि दर तथा इसका आर्थिक विकास पर प्रभाव
  • भारतीय अर्थव्यवस्था की प्राकृतिक विभिन्न क्षेत्रों की भूमिका, उद्योग, कृषि और इनकी सेवाओं की भूमिका, उनकी समस्याएं और विकास
  • इंफ्रास्ट्रक्चर– ऊर्जा, परिवहन, संचार
  • पैसा और बैंकिंग- बजट और राजकोषीय घाटा तथा भुगतान संतुलन,बजट प्रबंधन अधिनियम 2003,राजकोषीय उत्तरदायित्व,मैट्रिक या राजकोषीय नीति, भारतीय रिजर्व बैंक की भूमिका और कार्य वाणिज्यका बैंक या भुगतान बैंकों के कार्य

SSC CGL Syllabus And Exam Pattern (तीसरा चरण)

तीसरा चरण (Descriptive Test) – इस तीसरे चरण का पेपर जो कि ऑनलाइन के माध्यम से होता है जिसमें उम्मीदवार को पेपर और पेन की सुविधा से लेटर और निबंध लिखना होता है यह पेपर भी 100 अंक का होता है जिस को हल करने का समय कुल 1 घंटे का होता है

PWUD के उम्मीदवार को स्पेशल छोड़ दी जाती है जिसका समय सारणी में 20 मिनट और ऐड कर 80 मिनट रहती है।

चरण 3 के पाठ्यक्रम की बात करें तो इसमें अंग्रेजी और हिंदी में निबंध, पत्र लेखन, आवेदन पत्र,प्रिसिस,आदि का लेखन का परीक्षण होता है जिसे उम्मीदवार को 60 मिनट में सबमिट करना होता है।

SSC CGL Syllabus And Exam Pattern (चौथा चरण)

चौथा चरण (Skill Test) CGL के पेपर में यह चौथा चरण होता है जिसमें आप की स्किल तथा कंप्यूटर नॉलेज और कंप्यूटर टाइपिंग से जुड़ी जानकारी के बारे में पूछा जाएगा हालांकि यह चौथा चरण कुछ ही पोस्ट में होता है अन्यथा इस चरण को हटा दिया जाता है इस चरण में जिस भी उम्मीदवार की कंप्यूटर में अच्छी पकड़ होती है वह इस पेपर को आसानी से पास कर लेगा।

1.CPT  – कंप्यूटर प्रवीणता परीक्षा;स्प्रेडशीट्स,वर्ल्डप्रोसेसिंग, स्लाइडर का निर्माण, यह तीन सबसे महत्वपूर्ण टॉपिक है जो इस परीक्षा में पूछे जाते हैं तथा सभी सेंट्रल लेवल के एग्जाम फिर चाहे वह  MEA, UPSC स्पेक्टर सभी के पद के लिए यह कुशल होना मांगता है।

2.DEST  – डाटा एंट्रीस्पीडटेस्ट; यह मुख्य रूप से उम्मीदवार के कंप्यूटर टाइपिंग की जांच के लिए होता है इसमें उम्मीदवार को एक लेख दिया जाता है जो कि अंग्रेजी में होता है इसलिए को उम्मीदवार द्वारा 15 मिनट में 2000 शब्द टाइप करना होता है और यह टेस्ट, टैक्स असिस्टेंट के पद के लिए अधिक जरूरी है।

एक जरूरी बात CGL Exam में इंटरव्यू के लिए तैयारी करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इसमें इंटरव्यू नहीं लिया जाता।

यदि आपने SSC CGL पेपर को क्लियर कर लिया है अतः उसके बाद मिलने वाली पोस्ट है SSC CGL Posts

  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर
  • असिस्टेंट केंद्रीय सतर्कता
  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (intelligence bureau)
  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (Railway)
  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (विदेशी मामले)
  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (AFHQ)
  • असिस्टेंटऑफिसर अन्य मंत्रालय
  • आयकर इंस्पेक्टर (CBDT)
  • स्पेक्टर (CBEC)
  • असिस्टेंट इंफॉर्मेशनऑफिसर (राजस्व विभाग)
  • सब इंस्पेक्टर (CBI)
  • पोस्ट इंस्पेक्टर (डाक विभाग)
  • डिविजनल अकाउंटेंट
  • स्पेक्टर (नारकोटिक्स)
  • टैक्स असिस्टेंट (CBDT)
  • कंपाइलर (भारतीय रजिस्ट्रार जनरल)
  • सब इंस्पेक्टर (NIA)

और भी ऐसी कई अन्य पोस्ट हैं जिसमें SSC CGL के पेपर को क्लियर करने के बाद पोस्टिंग होती है।

SSC CGL Salary

SSC CGL में कई सारी पोस्ट हैं इन सब पोस्टों के अनुसार देखा जाए तो उम्मीदवार की कम से कम न्यूनतम सैलरी ₹18,000 एवं ज्यादा से ज्यादा अधिकतम सैलरी लगभग ₹2,50,000 तक हो सकती है सभी पदों की सैलरी इसके अंतर्गत एवं अलग-अलग होती है.।

SSC CGL Job Profile

  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर

जॉब प्रोफाइल–इस पोस्ट में मुख्य रूप से लिपीकिय कार्य शामिल है जैसे की रिपोर्ट बनाना, फाइल मैनेजमेंट करना,लेटर बनाना तथा इसे ऊपर तक पहुंचाना।

नौकरी का स्थान–दिल्ली

मासिक सैलरी-₹44,900 से 1,42,400

  • असिस्टेंट केंद्रीय सतर्कता

जॉब प्रोफाइल- इस पोस्ट में मुख्य रूप से फाइलों को तैयार करना, वरिष्ठ अधिकारियों के लिए सभी महत्वपूर्ण सूचनाओं को अलग कर उन तक पहुंचाना,रिकॉर्ड की डेस्क आदि कार्यभार संभालना होता है।

नौकरी का स्थान- नई दिल्ली

मासिक सैलरी- ₹9300 से ₹34800

  • असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर(इंटेलिजेंसब्यूरो)

जॉब प्रोफाइल- उम्मीदवारों को सुरक्षा इंटेलिजेंसब्यूरो के साथ काम करनाजो मंत्रालय सरकार के तहत कार्य करतेहै।

सैलरी– ₹44900 से ₹142400 तक

  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (Railway)

स्थान- अधिकांश विदेश मंत्रालय के सहायक जवाहरलालनेहरू भवन या दिल्ली विदेश मंत्रालय के तहत विदेश में काम कर सकते हैं।

सैलरी- ₹44900 से ₹142400

  • असिस्टेंट सेक्शनऑफिसर (विदेश मंत्रालय)

इस जॉब में विदेशी भाषा आना जरूरी है।

स्थान– मंत्रालय द्वारा कहीं भी पोस्टिंग हो सकती है विदेश भी भेजा जा सकता है।

सैलरी- ₹44900 से ₹142400

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको SSC CGL से जुड़ी संपूर्ण जानकारी प्रदान की है अतः मैं आशा करता हूं कि यह लेख पढ़कर आपके सारे Doubtsक्लियर हो गए होंगे।

लेकिन यदि आपको अभी भी कुछ जानना है या पूछना है तो आप नीचे दिए गए Comment box पर मैसेज कर पूछ सकते हैं।

दोस्तों यह आर्टिकल आपको कैसा लगा यदि अच्छा लगा हो तो इसे और लोगों की जानकारी के लिए, अपने दोस्तों को शेयर करें तथा इस लेख के प्रति अपना FEEDBACK जरूर प्रदान करें……धन्यवाद

1 thought on “SSC CGL Syllabus In Hindi And Exam Pattern | SSC CGL के बारे में सम्पूर्ण जानकारी”

Leave a Comment