Black Fungus In Hindi – ब्लैक फंगस के लक्षण | black fungus symptoms in hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम एक ऐसी महामारी की बात करने जा रहे हैं जो कि बहुत ज्यादा घातक है और जिसको आए बस अभी कुछ ही दिन हुए हैं जिसका नाम है ब्लैक फंगस या Mucormycosis

image 1
Black Fungus In Hindi

ब्लैक फंगस क्या है Black Fungus Kya Hai

जैसे कि आप सभी जानते हैं कि जब भारत देश हमारा करोना कि दूसरी लहर का सामना कर रहा था उस बीच भारत के सामने एक ऐसी चुनौती आ गई जिसका नाम ब्लैक फंगस के नाम से जाना जाता है यह भी एक घातक महामारी थी एक तरफ कोविड और दूसरी तरफ ब्लैक फंगस भारत देश इन दोनों का तक हमारी का सामना कर रहा था ।

यदि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो ब्लैक फंगस एक संक्रमित बीमारी नहीं है अर्थात या बीमारी कोरोना के जैसे एक से दूसरे को नहीं हो सकती और यह बीमारी के होने का मुख्य कारण लोगों के अंदर भय है लोग COVID  से बचने के लिए अपनी इम्यूनिटी बढ़ा रहे हैं और यूनिटी के लिए ज्यादा दवाइयां तथा स्ट्राइड्स ले रहे हैं

अतः ज्यादा दवाईया, स्ट्राइट्स के लेने की वजह से इस नई महामारी का जन्म हुआ जिसका नाम ब्लैक फंगस पड़ा और किसी कारण से होने की कोई अभी कोई रिपोर्ट नहीं आई है अर्थात जानवर जीव – जंतु, पेड़-पौधे से यह नहीं फैलता तथा यह COVID वायरस संक्रमित लोगों  के ठीक होने के बाद इससे साइड इफेक्ट्स के रूप में देखा गया है इससे लोगों की आंख की रोशनी चली जाती है और तो और कई लोगों की मौत भी हो जाती है।

ब्लैक फंगस से खतरा.?

डॉक्टर की सलाह से देखा जाए तो ब्लैक फंगस उन लोगों को जल्दी प्रभावित करता है जो व्यक्ति डायबिटीज का मरीज है जिसका कैंसर का इलाज चल रहा हो और ट्रांसप्लांट करवाया हो इन सब को यह जल्दी प्रभावित कर रहा है और वैज्ञानिकों के अनुसार यह फंगस वातावरण में मौजूद है और खासकर मिट्टी में इसकी मौजूदगी ज्यादा है तथा जो व्यक्ति हष्ट पुष्ट स्वस्थ और मजबूत यूनिटी वाला है उस पर यह अटैक नहीं करेगा यह कम्युनिटी वालों को ही संक्रमित कर पाता है अतः  कुछ डॉक्टरों ने भी सतर्क करते हुए कुछ बातें बताया है निम्न लिखित है जैसे कि.

  1. स्टेरॉयड के हाई डोज लेने पर लोग चेतन तो हो जाते हैं लेकिन इससे मरीज को ब्लड फंगस का खतरा और भी बढ़ जाता है तथा ऐसे लोगों के खून में बहुत ज्यादा मिठास की मात्रा बढ़ जाती है जो हाई शुगर ब्लड के रूप में सामने आता है।
  2. जिस मरीजों को को हिट के फर्स्ट लहर में स्टेरॉयड दिया गया रहा होगा उसे से भी ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ जाता है।
  3. अगर लंबे समय तक किसी को लगातार स्टेरॉयड दिया जाए तो उसे भी ब्लैक फंगस हो सकता है।
  4. कई व्यक्ति जो बीमार हैं लेकिन उसकी दवाइयां खूब सारी हैं अर्थात अधिक दवाई की वजह से भी यह हो सकता है।
  5. तथा उन्होंने यह भी कहा कि दवाइयां अवश्य सावधानी से खाना चाहिए ताकि वह भी इंफेक्शन का कारण न बन सके क्योंकि दवाइयां यूनिटी सिस्टम को कमजोर करती हैं।

ब्लैक फंगस के लक्षण Black Fungus Symptoms In Hindi

हम तमाम लक्षणों को इग्नोर कर देते हैं जो बाद में किसी गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है हम यहां पर आपको समान वाले ब्लॉक फंगस के कुछ सेंटम्स बताएंगे जिन्हें आप नजरअंदाज बिल्कुल ना करिएगा यदि आप इन सब लक्षण पर तुरंत ध्यान देंगे या देते हैं और समय रहते आप ट्रीटमेंट भी करवाते हैं या करवा लेते हैं तो फंगस से बच सकते हैं आइए जानते हैं कैसे करें फंगस की पहचान.।

  1. आंख में जलन-
image 2

इसे सबसे ज्यादा दर्द आंख में होता है जब लफंगा संक्रमित होता है तो वह नाक, मुंह से होते होते जबड़े आंख में पहुंचता है और आंख संक्रमित होने पर आंख का दोबारा प्रत्यारोपण भी संभव नहीं होता।

  1. चेहरा एक तरफ सूज जाना –
image 3

डॉक्टर का कहना है कि ब्लैक पंकज की वजह से भी चेहरे में सूजन आ जाती है जोकि बहुत खतरनाक है इससे दर्द भी बहुत तेज होता है वैसे अगर देखा जाए तो चेहरे में सूजन कई वजह से आ सकती हैं अगर मसूड़े में दर्द होता है तो भी आ सकती है यदि आप कम नींद या ज्यादा नींद ले रहे हैं तो भी आ सकती है लेकिन यदि आपको ऐसी कोई भी बीमारी नहीं है तो यह ब्लड फंगस का लक्षण हैऐसे में आपको सावधानी बरतनी चाहिए और जल्द से जल्द डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

2.चेहरा सुन हो जाना –

image 4

जैसे कि आप सब जानते हैं कि आमतौर पर कभी-कभी हमारा पैर हाथ सुन हो जाता है लेकिन यदि चेहरा सुनो हो रहा है तो यह दुर्लभ है क्योंकि कई मरीज में देखा गया है कि उनका चेहरा सुन हुआ था तो यदि आपको ऐसा कुछ लग रहा है तो आप तत्काल जांच करवाएं।

3. सिर दर्द होना-

image 5

जब ब्लैक फंगस फेस में होता है तो वह मुंह नाक कान से होते हुए सिर् तक पहुंच जाता है और काफी तेज सिर दर्द शुरू हो जाता है हां यह बात सही है कि सिर दर्द के पीछे कई कारण हैं जैसे माइग्रेन का होना स्ट्रेस का होना कोई प्रकार के हेड चीज का होना यदि इसके अलावा आपको दर्द हो रहा है तब आपको अपना इलाज जल्द से जल्द करवाना चाहिए।

4. के आजू-बाजू काले रंग के धब्बे –

image 6

आमतौर पर सर्दी होने पर सबके नाक बंद हो जाते हैं लेकिन कोबिट रिकवरी के बाद आप संपूर्ण स्वस्थ होते हैं जिससे आपकी नाक जाम नहीं रहती लेकिन इसके अलावा आपकी नाक काली हो जाती है या

आसपास काले धब्बे दिखने लग जाते हैं क्योंकि ब्लैक फंगस नाक से ही अंदर जाता है तो यह लक्षण गंभीर बीमारी ब्लड फंगस का है यदि यह आपको समझ नहीं आ रहा तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

5.मसूड़े में सूजन आ जाना यह दातों का ढीला हो जाना –

image 7

यदि आप की उम्र 60 के ऊपर हो जाती है तो समझ सकते हैं कि आपके दांत के मसूड़े में सूजन आ सकती है लेकिन बेवजह आप के मसूड़े में सूजन या दांत में दर्द होने लग जाता है तो यह लक्षण ब्लैक फंगस का है देर नहीं करना है जो भी आसपास की चिकित्सालय हैं उस पर जाकर आपको डॉक्टर से संपर्क करना है और अपनी जान शुरू करवानी है।

इसे रोकने का उपाय या सावधानियां..

सबसे प्रमुख बात जो डॉक्टर द्वारा बताई गई है कि हम इस बीमारी को जितना जल्द पकड़ेंगे उतना जल्दी हम इसे ठीक कर सकेंगे उतना ही जल्दी इसका इलाज होगा और कारगर भी होगा यदि हमें ब्लैक फंगस की रोकथाम को देखें तो प्रमुखता तीन चीजें हैं।

  1. शुगर पेशेंट – जो लोग शुगर पेशेंट हैं उन्हें अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने का अतिरिक्त प्रयास करना चाहिए तथा खून में चीनी की मात्रा बिल्कुल ना बढ़ाएं उस पर नियंत्रित रखें जिन्हें डायबिटीज है जो लोग डायबिटीज है।

तथा जी ने डायबिटीज नहीं है जो डायबिटीज नहीं है लेकिन निर्मित तरीके से स्टेरॉयड ले रहे हैं उन्हें भी अपना ब्लड शुगर चक्कर आते रहना चाहिए जिससे शुगर बढ़ने पर उसे नियंत्रित कर सके जिससे वह इस संक्रमण से बच सकेंगे।

  • स्ट्राइड लेने का भी तरीका होता है अर्थात जब हम किसी भी दुकान से स्टेरॉयड लेते हैं तब हमें अच्छे से गाइडलाइंस देखना चाहिए उस पर क्या क्या गाइडलाइन है कि गुस्से के मुताबिक ही हमें स्ट्राइड को यूज करना चाहिए।
  • स्टेरॉयड के इस्तेमाल से परहेज- स्ट्राइड जिस भी मरीज के दवाइयों के साथ जुड़ा है उसे उतना ही दे जितना ही देना है और यदि जरूरत पड़े तो कम रोज ही दें ना कि बहुत ज्यादा और ठीक होने के बाद आप उसे बंद भी कर सकते हैं तथा इस तरह की दूसरी दवाई से भी बचें और इस तरह की दवाइयां तभी दी जाए जब बहुत जरूरीहो अन्यथा बिल्कुल नहीं।

ब्लैक फंगससे बचाव के तरीके…

  1. सर्वप्रथम जो शुगर मरीज हैं उन्हें ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखना चाहिए
  2. ऑक्सीजन होम्यो मीडिया फायर मेजो पानी रखा जाता है वह साफ होना चाहिए।
  3. प्रदूषण या प्रदूषित जगह फूल वाली जगह पब्लिक प्लेस में मास्क पहनकर ही चलना चाहिए जिसे आप प्रदूषण से बच सकें।
  4. कुवैत के इलाज में स्टेरॉयड का उचित तथा गाइडलाइंस द्वारा ही उपयोग किया जावे।
  5. मिट्टी खाद और कई जैसे  के संपर्क में आने से बचें।

ब्लैकफंगस का उपचार

इस बीमारी से बचाव के लिए एंटीफंगल्स दवा तेरे सीन   एंफोटरइसिन – बी का उपयोग किया जा रहा है लेकिन आप इसे मेडिकल से लेकर बिल्कुल भी ना खाएं क्योंकि यह खतरनाक साबित हो सकता है आपको डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसका इस्तेमाल कर ना चाहिए यदि लक्षण है तो सर्वप्रथम नजदीकी चिकित्सालय को दिखावे और उसके द्वारा मेरी रिकमेंड  करने पर ही इसे यूज में ले।

यदि देखा जाए तो ब्लैक फंगस के अलावा को ही की तीसरी लहर का खतरा भी देश में बढ़ता जा रहा है अकेले राजस्थान में ही 7.5 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं ऐसे में यदि बच्चों को इसका कुछ भी लक्षण दिखता है तो आप तत्काल इसका इलाज कोई अच्छी अस्पताल में करावे।

Leave a Comment